Today News Hunt

News From Truth

कांग्रेस रचनात्मक विपक्ष की भूमिका निभाने में विफल – महामारी में भी केवल राजनीति में जुटी है पार्टी – रणधीर शर्मा

1 min read
Spread the love

भाजपा के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रणधीर शर्मा ने शिमला में प्रेस से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी प्रदेश में एक रचनात्मक विपक्ष की भूमिका निभाने में विफल साबित हुई है । उन्होंने कहा कि विपक्ष को सत्ता पक्ष पर आरोप लगाने का पूर्ण अधिकार है पर आरोप तथ्यों के साथ होने चाहिए।
कांग्रेस के कुछ नेताओं ने तथ्य हीन बयानबाजी के आधार पर प्रदेश की जनता और कोरोना से संक्रमित लोगों में भय का वातावरण पैदा कर दिया है , उन्होंने कहा कि कांग्रेसी स्वास्थ्य सुविधाओं, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ, हेल्थ वर्कर की कार्यप्रणाली पर टिप्पणी करती है और इन प्रमाणहीन टिप्पणियों से प्रदेश में डर का वातावरण पैदा हुआ है।
रणधीर शर्मा नेे कहा कि हम सब को राजनीति से ऊपर उठकर कोरोना योद्धाओं का मनोबल बढ़ाना चाहिए लेकिन कांग्रेस पार्टी ने स्पष्ट कर दिया है कि इस महामारी के समय भी कांग्रेस के लिए राजनीति ही सब कुछ है।
आज भी कांग्रेस के नेता एक दूसरे को नीचा दिखाने का काम कर रहे है और जिस प्रकार से कांग्रेस में पोस्टर फाड़े गए वो इसका प्रमाण है, कुछ लोग जो कांग्रेस में सकारात्मक राजनीति करने का प्रयास कर रहे है उनके साथ भी अच्छा व्यवहार नहीं हो रहा है यह उनका अमानवीय दृष्टिकोण दिखता है।
उन्होंने कहा कि सरकार, समाज व कोरोना योद्धाओं के अथक प्रयासों से आज प्रदेश का रिकवरी रेट 83% पहुंच गया है।
उन्होंने मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के प्रयासों की भी सराहना की जिस प्रकार से वह जिला मुख्यालय से स्वयं फीडबैक लेकर कार्य कर रहे हैं और उसके अनुसार विभाग को आदेश दे रहे हैं।
आज हिमाचल प्रदेश में ऑक्सीजन की कोई भी कमी नहीं है और कई जगह तो ऑक्सीजन प्लांट भी शुरू हो गए हैं उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, और राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा भी इस महामारी से लड़ने का पूर्ण प्रयास कर रहे हैं।
उन्होंने जनता से अपील की कि इस महामारी के समय सरकार का सहयोग करें उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति को हल्के सिस्टम भी आते हैं तो वह भी टेस्ट अवश्य करवाएं।
उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस एक नहीं अनेकों गुटों में बटी है और कांग्रेस में एक दूसरे को नीचा दिखाने की राजनीति दुर्भाग्यपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed