Today News Hunt

News From Truth

भारतीय चुनाव आयोग ने देश भर में उपचुनाव किए घोषित,प्रदेश में चार उपचुनाव के लिए 30 अक्तूबर को मतदान और 2 नवम्बर को होगी मतगणना

1 min read
Spread the love

भारतीय चुनाव आयोग ने तीन संसदीय और 30 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव की घोषणा कर दी है । इसी के साथ अब हिमाचल प्रदेश के 3 विधानसभा और एक संसदीय क्षेत्र में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा, पूर्व मंत्री सुजान सिंह पठानिया और सांसद रामस्वरूप शर्मा के उत्तराधिकारी का फैसला हो सकेगा । हिमाचल प्रदेश में 1 अक्टूबर को बजट अधिसूचना जारी होगी, नामांकन भरने की आखिरी तारीख 8 अक्टूबर रहेगी जबकि नामांकन की छंटनी 11 अक्टूबर को की जाएगी । 13 अक्टूबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे और शनिवार 30 अक्टूबर को मतगणना का दिन निर्धारित किया गया है । वोटों की गिनती 2 नवंबर को होगी । चुनाव आयोग ने ईवीएम व वीवीपैट से चुनाव करवाने का फैसला लिया है और आयोग ने चुनाव को सुचारू रूप से चलाने के लिए सभी तैयारियां कर ली हैं । चुनावी क्षेत्रों में तुरंत प्रभाव से आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है । नामांकन भरने के दौरान पूर्व और बाद में जनसभाओं पर कोविड-19 के खतरे के चलते रोक रहेगी । आर ओ के दफ्तर के 100 मीटर के दायरे में केवल 3 वाहनों को ले जाने की इजाजत होगी जबकि भीतरी सभाओं में गतिविधियों में जगह की क्षमता के 30 फीसदी संख्या या 200 लोगों की अनुमति होगी और संख्या की गणना के लिए बाकायदा रजिस्टर रखना होगा । वही स्टार प्रचारकों की जनसभा में खुले में क्षमता का 50 फीसद या 1000 लोगों के एकत्र होने की अनुमति रहेगी जो कि अन्य नेताओं की सभाओं में 50 फ़ीसदी या 500 लोगों की अनुमति रहेगी। जनसभा वाले क्षेत्र पुलिस के नियंत्रण में रहेंगे ।

चुनाव आयोग ने राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय मान्यता प्राप्त दलों के स्टार प्रचारकों की अधिकतम संख्या भी निर्धारित की है इसमें अधिकतम 20 स्टार प्रचार ही भाग ले पाएंगे जबकि अन्य को 10 स्टार प्रचारक लाने की अनुमति होगी । इस दौरान न तो रोड शो हो पाएंगे और ना ही गाड़ियों, मोटरसाइकिल और साइकिल रैली की अनुमति होगी । डोर टू डोर प्रचार में उम्मीदवार के अलावा 5 लोगों को प्रचार की अनुमति रहेगी ।प्रचार के दौरान स्टार प्रचारकों के अलावा उम्मीदवारों और राजनीतिक पार्टियों के साथ 20 वाहन अधिकतम 50% सवारियों की क्षमता के साथ रह पाएंगे। कोविड सुरक्षा नियमों के मुताबिक मतगणना के दौरान डीईओ प्रोटोकॉल के मुताबिक किसी भी तरह का उचित फैसला में सक्षम होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed