Today News Hunt

News From Truth

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लिए ऊर्जा उपकरण विनिर्माण हब स्वीकृत करने का कियाआग्रह -केंद्र ने हर सम्भव सहायता का दिया आश्वासन

1 min read
Spread the love

प्रदेश सरकार ने केन्द्र सरकार से पाॅवर ग्रिड काॅरपोरेशन को राज्य के स्पीति क्षेत्र और चिनाब बेसिन से बिजली की निकासी के लिए प्रभावी योजना बनाने का आग्रह किया। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने तीसरी ग्लोबल रिन्यूएबल एनर्जी इन्वेस्टमेंट मिटिंग और एक्सपो, री-इन्वेस्ट 2020 में मुख्यमंत्रियों के प्लेनरी सैशन के दौरान सम्बोधित करते हुए कही, जिसका शुभारम्भ गत दिवस प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया। इस वर्चुअल आयोजन में पूरे विश्व के लगभग 25000 प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने राज्य के चिनाब बेसिन और स्पीति क्षेत्र में 6000 मेगावाट नवीकरणीय ऊर्जा की क्षमता चिन्हित की है। उन्होंने कहा कि चिनाब नदी के बेसिन में विद्युत परियोजना को कार्यान्वित करने का कार्य सतलुज जल प्रबन्धन निगम लिमिटेड (एसजेवीएनएल) एनटीपीसी प्रत्येक किश्ती और एनएचपीसी को आवंटित किया गया है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त स्पीति क्षेत्र में 880 मेगावाट के मेगा सौर पार्क के विकास का कार्य एसजेवीएनएल को आवंटित किया गया है। उन्होंने कहा कि इन दोनों क्षेत्रों में बिजली की निकासी के लिए प्रभावी योजना तैयार करने की आवश्यकता है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में ‘ग्रीन गौशाला’ योजना पर भी कार्य कर रही है, जिसके तहत सौर ऊर्जा का पूरी तरह से दोहन करके आत्मनिर्भर बायोगैस का उत्पादन किया जाएगा। उन्होंने इस मामले में केन्द्र सरकार से भी सहयोग प्रदान करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में जैव ईंधन की अपार सम्भावना है। प्रदेश के जंगलों में चीड़ की पत्तियां और लैंटाना के रूप में प्रतिवर्ष लाखों टन जैव ईंधन उपलब्ध होता है। उन्होंने कहा कि बिजली उत्पादन के लिए उपलब्ध क्षमता का दोहन करने के लिए प्रदेश सरकार ने ‘पाईन निडल बेस्ड ब्रीकेट’ का शुभारम्भ किया है।जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में पांगी घाटी एक ऐसा क्षेत्र है, जहां ग्रिड कनेक्टीविटी नहीं है तथा स्थानीय स्तर पर लाइनें बिछाकर ऊर्जा वितरित की जा रही है। उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र दुर्गम है तथा सर्दियों में शेष देश से अलग-थलग रहता है और प्रदेश के बजट में यहां रहने वाले परिवारों में से 1000 परिवारों को प्रति परिवार 250 वाट के सौर संयंत्र प्रदान करने का निर्णय लिया गया हैं। उन्होंने केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री से आग्रह किया कि सभी परिवारों को यह सुविधा प्रदान करने में राज्य सरकार का सहयोग करें।

केन्द्रीय विद्युत, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री आर.के. सिंह ने कहा कि वर्ष 2017 से कोयले पर आधारित उष्मीय ऊर्जा के मुकाबले में नवीकरणीय ऊर्जा की वार्षिक क्षमता में निरंतर वृद्धि हुई है और पिछले छः वर्षों में भारत में नवीकरणीय ऊर्जा की क्षमता अढ़ाई गुणा बड़ी है। उन्होंने मुख्यमंत्री को राज्य में ग्रीन गौशाला योजना, के लिए राज्य में ऊर्जा उपकरण विनिर्माण हब की स्थापना और राज्य के दूरदराज के क्षेत्रों से बिजली की निकासी के लिए हरसंभव सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, लद्दाख के उप राज्यपाल राधा कृष्ण माथुर ने भी इस अवसर पर अपने विचार सांझा किए।

सीआईआई के महानिदेशक चंद्राजीत बैनर्जी ने कहा कि देश के हर नागरिक तक बिजली की पहंुच सुनिश्चित करने के लिए उत्पादन क्षमता और नेटवर्क का विस्तार किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री के साथ शिमला में ऊर्जा मंत्री सुख राम चैधरी और अतिरिक्त मुख्य सचिव ऊर्जा राम सुभग सिंह उपस्थित थे।

        .0.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed